Posts

Showing posts from October, 2016

Dear Diary ...that was my Best Diwali !!

Image
Dear Diary, It's been almost 6 months since I told you about my feelings like I used to do. I've been busy & keeping myself extra busy. Never got enough time to spend with you like I used to do in past. But today I feel like I’m missing someone with whom I can share something and like always you are my best choice ever for same.
Remember, once I told you about, I don't feel like burning crackers or lightning house on this Diwali. I know, I was rude or may be little bit of arrogance that time but I had my reason for that. Like every child I also needed to buy Firecrackers and burn them whole night like everyone else. That childhood not gonna come again but my Parents huh.. only 100 bucks for entire Diwali, Was that enough ? One packets of Mirchi patakha, One Fuljhari and one packet of Dulal Bomb. Was that really enough for whole night ? I was really Not satisfied so made displeased face in front of everyone. At least someone from family will buy me some more crackers but …

मैं रावण ही ठीक हूँ , मुझे झूठा राम नहीं बनना !!

Image
आज  रामनवमी का दिन था, लोगो को देखा रामलीला देखते जाते तो सोचा आज मैं भी जरा हो आऊं। देखु तो सही रावण दहन कैसे होता है, राम की जीत कैसी होती है । वैसे भी दुर्गापूजा में रामलीला नहीं देखि तो आना व्यर्थ है । जल्दी आने के कारण आगे की पंक्ति मिली मुझे सच में ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे रावण सक्छात खड़ा हो मेरे सामने , बुराईयो से भरपूर, क्रोध और नरसंहार सी धधकती आँखे उसकी साथ में कुटिल मुश्कान पर अजीब सा तेज दिख रहा था आज उसके मुश्कान में | यूँ खड़े-खड़े इस दृस्य को निहार ही रहा था की एक सज़्ज़न जो बगल में खड़े थे वो बोल पड़े  | 
" आज रावण का नाश हो जायेगा मज़ा आएगा रावण को जलते देखकर"ये बोलते हुए अपनी दुर्लभ सी बत्तीसी दिखा हँसने लगे । मुझे अजीब सा लगा और जैसा की मैं हमेसा से व्यंगात्मक बाते करता आया हुँ आज भी व्यंग के लहजे में ही पूछ बैठा"ऐसा क्या है इस रावण में जो इसे जलते देख आपको ख़ुशी होगी ? और किसने कहा की रावण का नाश राम ने कर दिया है, क्या पता वो अब भी ज़िंदा हो हमारे बीच और क्यों हम रावण को ही दोसी मानते हैं , राम भी तो गलत हो सकते हैं कभी |

रावण बुरा था, अत्याचारी था सीता का हर…